What is ETF? – Exchange Traded Fund [ETF] क्या है आइए विस्तार में जाने|

 

ETF यानि EXCHANGE TRADED FUND एक ऐसा फण्ड जो एक्सचेंज में ट्रेड किया जा सकता है। ETF वास्तव में इंडेक्स फण्ड होते है जो स्टॉक एक्सचेंज में शेयर की तरह ही ख़रीदे बेचे जाते है। यानि ETF स्टॉक की तरह ही है जिसमे कई शेयरों का मिश्रण होता है। ETF की कीमतों में रोजाना कई बदलाव होते रहते है क्योकि इनमे लगातार खरीद फरोख्त होती रहती है

ETF  को कैसे खरीद और बेच सकते है ?

यह एक ऐसा फण्ड है जो शेयर कमोडिटी बांड करेंसी जैसे किसी भी एसेंट का प्रतिनिधित्व कर सकता है। इसको खरीदना और बेचना बहुत ही आसान है आप इसे सीधे फण्ड हाउस से खरीद व बेच सकते है और ब्रोकर  के द्वारा भी। आप ETF में भी DAY TRADING भी कर सकते है। लेकिन आपको (Market Depth) का ध्यान रखना होगा।

ETF के फायदे :-

  • खरीदने व बेचने आसान है।
  • निवेश रिस्क में कमी होती है।
  • ETF में आप कम राशि में भी निवेश कर सकते है।
  • ETF में SIP भी कर सकते है।
  • ETF में (Exit Load) लोड नहीं होता।
  • ETF में (STT Charge) भी नहीं लगता।

भारत
बॉन्ड ईटीएफ क्या है?

भारत बॉन्ड ईटीएफ क्या है?

भारत सरकार ने भारत बॉन्ड ईटीएफ की लॉन्चिंग को मंजूरी दे दी है। यह भारत का पहला कॉर्पोरेट बॉन्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) है। भारत बॉन्ड ईटीएफ में केंद्र सरकार द्वारा संचालित कंपनियों के बॉन्ड शामिल हैं। यह खुदरा निवेशकों को सरकारी बॉन्ड खरीदने की अनुमति देता है।

ईटीएफ क्या होता है?

एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) आपके पैसे को एक विशेष सूचकांक को ट्रैक करने वाली प्रतिभूतियों में निवेश करता है। ईटीएफ म्यूचुअल फंड की तरह ही होते हैं, लेकिन इन्हें स्टॉक की तरह एनएसई या बीएसई जैसे स्टॉक एक्सचेंजों से ही खरीदा और बेचा जा सकता है।

बॉन्ड ईटीएफ क्या होता है?

बॉन्ड ईटीएफ अंतर्निहित सूचकांक के बॉन्ड में निवेश करते हैं। यह बॉन्ड कॉर्पोरेट, सरकार या पीएसयू के हो सकते हैं।

भारत बॉन्ड ईटीएफ क्या है?

भारत बॉन्ड ईटीएफ के तहत AAA रेटेड सरकारी कंपनियों के बॉन्ड में निवेश किया जाता है। भारत बॉन्ड ईटीएफ में एक निश्चित परिपक्वता तिथि है और ब्याज दर का जोखिम कम होगा। यह एडलवाइस म्यूचुअल फंड द्वारा प्रबंधित भारत का सबसे सस्ता म्यूचुअल फंड उत्पाद है। ईटीएफ 0.0005% चार्ज करता है। भारत बॉन्ड ईटीएफ में दो परिभाषित परिपक्वताएं हैं। पहली, 3 वर्ष और दूसरी, 10 वर्ष। भारत बॉन्ड ईटीएफ की एक निश्चित परिपक्वता तिथि है और परिपक्वता के बाद आपको रिटर्न के साथ निवेशित राशि मिलती है।

भारत बॉन्ड ईटीएफ के महत्वपूर्ण तथ्य

  • भारत बॉन्ड ईटीएफ में केंद्र सरकार के सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम या अन्य सरकारी संगठनों द्वारा जारी किए गए एएए रेटेड बॉन्ड हैं।
  • इनकी 3 और 10 वर्षों की निश्चित परिपक्वता अवधि है और बीएसई और एनएसई जैसे स्टॉक एक्सचेंजों से इनका व्यापार किया जा सकता है।
  • इससे पहले हमारे पास केवल इक्विटी ईटीएफ था, लेकिन भारत बॉन्ड ईटीएफ एक डेट ईटीएफ है।
  • भारत बॉन्ड ईटीएफ एक अंतर्निहित सूचकांक को जोखिम प्रतिकृति, क्रेडिट गुणवत्ता और सूचकांक की औसत परिपक्वता के आधार पर ट्रैक करता है।
  • भारत बॉन्ड ईटीएफ में दो परिपक्वता श्रृंखलाएं 3 वर्ष और 10 वर्ष हैं। प्रत्येक श्रृंखला में समान परिपक्वता श्रृंखला का एक अलग सूचकांक होता है।
  • भारत बॉन्ड ईटीएफ से खुदरा भागीदारी बढ़ेगी तथा कॉर्पोरेट बॉन्ड बाजार में भी बढ़ोत्तरी होगी।
  • भारत बॉन्ड ईटीएफ 0.0005% के चार्ज के साथ सबसे सस्ता है।
  • बॉन्ड ईटीएफएस टैक्स दक्षता प्रदान करता है। बॉन्ड ईटीएफएस कूपन दर (यह बॉन्ड से अर्जित ब्याज है) को कर योग्य वेतन में जोड़ा जाता है और यदि आप इसे 3 साल से कम अवधि के लिए रखते हैं, तो आपके आयकर स्लैब के अनुसार टैक्स लगाया जाता है। इंडेक्सेशन के बाद लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स पर 3 साल से ज्यादा की अवधि के लिए 20% टैक्स लगता है। इंडेक्सेशन, मुद्रास्फीति के लिए निवेश के खरीद मूल्य को समायोजित करने की प्रक्रिया है।

भारत बॉन्ड ईटीएफ में कंपनियां

पहली श्रृंखला में सरकारी स्वामित्व वाली एएए रेटेड कंपनियों के बॉन्ड हैं। 3 साल की श्रृंखला योजना के लिए शीर्ष 3 होल्डिंग्स कंपनियां नाबार्ड, आरईसी और पावर ग्रिड हैं। 10 वर्षीय श्रृंखला योजना के लिए शीर्ष 3 होल्डिंग्स में एनएचएआई, आईआरएफसी और आरईसी कंपनियां हैं। पहली योजना अप्रैल 2023 में परिपक्व होगी और दूसरी योजना अप्रैल 2030 में परिपक्व होगी।

भारत बॉन्ड ईटीएफ कैसे काम करता है?

भारत बॉन्ड ईटीएफ सरकारी स्वामित्व वाली एएए रेटेड कंपनियों के बॉन्ड में निवेश करता है। इसका मतलब है कि इन बॉन्ड में क्रेडिट और डिफॉल्ड का लगभग न के बराबर जोखिम होता है, क्योंकि इन कंपनियों के बॉन्ड बेहद सुरक्षित होते हैं। भारत बॉन्ड ईटीएफ की लागत बहुत ही कम है, यह सिर्फ 0.0005% है। इसकी एक निश्चित परिपक्वता तिथि होती है। इसमें ब्याज दर का सबसे कम जोखिम होता है और यह अनुमानित रिटर्न प्रदान करता है, यदि परिपक्वता तक रखा जाये। इसकी यूनिट्स लिक्विड होती हैं, क्योंकि भारत बॉन्ड ईटीएफ स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध है। यदि आप एक बड़े निवेशक हैं, तो आप सीधे फंड हाउस से यूनिट खरीद और बेच सकते हैं। चूंकी ईटीएफ की एक निश्चित परिपक्वता तिथि है, इसलिए बॉन्ड परिपक्वता अवधि तक रखे जाते हैं और ब्याज को पुनर्निवेशित किया जाता है। भारत बांड ईटीएफ में निवेश करने के लिए आपका डीमैट खाता होना चाहिए। इसमें केवल लाभ कमाने का विकल्प है। लाभांश का कोई विकल्प नहीं है।

भारत बॉन्ड ईटीएफ से मिलने वाला रिटर्न

भारत बॉन्ड ईटीएफ के माध्यम से आप कम जोखिम लेकर भारत के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देने वाली कंपनियों के बॉन्ड खरीद सकते हैं और भारत के आर्थिक विकास में भागीदार बन सकते हैं। इसमें आपके पास निवेश के दो विक्लप होते हैं। पहला, शॉर्ट टर्म, इसकी परिपक्वता अवधि तीन साल है। दूसरा, लॉन्ग टर्म, इसकी परिपक्वता अवधि 10 साल है। इसके माध्यम से आप फिक्स्ड डिपॉजिट की तुलना में अधिक और सुनिश्चित रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। आप इसमें सिर्फ एक हजार रुपये से निवेश कर सकते हैं। भारत बॉन्ड ईटीएफ 10 साल के सरकारी बॉन्ड की तुलना में 50 से 140 बेसिस अंक अधिक रिटर्न दे सकते हैं। मौजूदा 10 साल के सरकारी बॉन्ड की यील्ड 6.67% है, जो एफडी से अधिक है।



Post a Comment

0 Comments